Mar Ke Dikhana Pada

Mar Ke Dikhana Pada

Wo Kar Nahi Rahe The Meri Baat Ka Yakeen,
Phir Yun Hua Ke Mar Ke Dikhana Pada Mujhe.

वो कर नहीं रहे थे मेरी बात का यकीन,
फिर यूँ हुआ के मर के दिखाना पड़ा मुझे।

Maut Shayari - Mar Ke Dikhana Pada

Jo Log Maut Ko Zaalim Qaraar Dete Hain,
Khuda Milaye Unhen Zindagi Ke Maaron Se

जो लोग मौत को ज़ालिम क़रार देते हैं,
ख़ुदा मिलाए उन्हें ज़िंदगी के मारों से।

Log Achchhe Hain Bahut Dil Mein Utar Jaate Hain,
Ek Burayi Hai To Bas Ye Hai Ki Mar Jaate Hain.

लोग अच्छे हैं बहुत दिल में उतर जाते हैं,
एक बुराई है तो बस ये है कि मर जाते हैं।

Leave a Comment