Masoom Sa Dil

Masoom Sa Dil

Dil Pagal Hai Roj Nayi Nadani Karta Hai,
Aag Me Aag Milata Hai Fir Paani Karta Hai.

दिल पागल है रोज़ नई नादानी करता है
आग में आग मिलाता है फिर पानी करता है।

Dil Par Chot Khai Hai Tab To Aah Labo Tak Aayi Hai,
Yun Hi Chhan Se Bol Uthna To Sheeshe Ka Dastoor Nahin.

दिल पर चोट पड़ी है तब तो आह लबों तक आई है,
यूँ ही छन से बोल उठना तो शीशे का दस्तूर नहीं।

Masoom Sa Dil Bhola Sa,
Anchue Zazbato Me Khila Sa.

Na Jaane Wo Chhal-Kapat,
Har Kisi Ke Saath Sadgi Se Mila Sa.

Krta Tha Wo Pyar Kisi Se,Anjan Tha Dasturon Se,
Hardum Kisi Ke Khayalo Me Gula Sa.

Masoom Dil Janta Na Tha Dard Mohabbat Ke,
Khaya Na Tha Kabhi Chot Bhi Zara Sa.

Thukra Gaya Koi Use,Diye Gam Bhi Hazar,
Toota Wo Kuch Aise Ke Rah Gaya Dhara Sa.

Kuch Samjh Na Saka Wo Ab Jiye Kaise, Dhadke Kiske Liye
Soch Bhi Na Paya Kuch, Rah Gaya Bas Aansuo Se Bhara Sa !

मासूम सा दिल भोला सा,
अनछुए जज्बातों में खिला सा।

न जाने वो छल-कपट,
हर किसी के साथ सादगी से मिला।

करता था वो प्यार किसी से,अनजान था दस्तूरों से,
हरदम किसी के ख्यालों में घुला सा।

मासूम दिल जानता न था दर्द मोहब्बत के,
खाया न था कभी चोट भी ज़रा सा।

ठुकरा गया कोई उसे दिए गम भी हज़ार,
टूटा वो कुछ ऐसे के रह गया धरा सा।

कुछ समझ न सका वो अब जिए कैसे, धड़के किसके लिए,
सोच भी न पाया कुछ, रह गया बस आंसुओं से भरा सा ।

Leave a Comment