Maut Bakhsi Hai

Maut Bakhsi Hai

Chhod Diya Mujhko Aaj Meri Maut Ne Yeh Kah Kar,
Ho Jao Jab Zinda, To Khabar Kar Dena.

छोड़ दिया मुझको आज मेरी मौत ने यह कह कर,
हो जाओ जब ज़िंदा, तो ख़बर कर देना।

Maut Shayari - Chhod Diya Meri Maut Ne For Fb

Badi Ajeeb Cheej Hai Ye Maut Bhi,
Kabhi Kabhi Us Jagah Bhi Mil Jati Hai,
Jahan Log Zindagi Ki Dua Mangne Jaya Karte Hain.

बड़ी अजीब चीज है ये मौत भी,
कभी कभी उस जगह भी मिल जाती है,
जहाँ लोग जिंदगी की दुआ मांगने जाया करते है।

Maut Bakhsi Hai Jisne Us Mohabbat Ki Kasam,
Ab Bhi Karta Hun Intezar Baithkar Majar Me.

मौत बख्शी है जिसने उस मोहब्बत की कसम,
अब भी करता हूँ इंतज़ार बैठकर मजार में।

Main Kisi Ko Kya Ilzaam Dun Apni Maut Ka Dosto,
Yahan To Satane Wale Bhi Apne The Aur Dafnane Wale Bhi Apne

मैं किसी को क्या इल्ज़ाम दूँ अपनी मौत का दोस्तो,
यहाँ तो सताने वाले भी अपने थे और दफ़नाने वाले भी अपने।

Ai Khuda Tu Kabhi Ishq Na Karna Be-Maut Mara Jaeyga,
Ham To Mar Kar Bhi Tere Pas Aate Hain Par Tu Kahan Jaeyga

ऐ ख़ुदा ! तू कभी इश्क़ न करना बेमौत मारा जाएगा,
हम तो मर कर भी तेरे पास आते हैं पर तू कहाँ जाएगा।

Leave a Comment