Mera Hisaab Kar De

Mera Hisaab Kar De

Thak Gaya Hun Teri Naukari Se Ai Zindagi,
Munaasib Hoga Ke Mera Hisaab Kar De.

थक गया हूँ तेरी नौकरी से ऐ ज़िन्दगी,
मुनासिब होगा के मेरा हिसाब कर दे।

Zindagi Ye Chahti Hai Ki Khudkushi Kar Lun,
Main Is Intezaar Me Hun Ki Koi Hadsa Ho Jaye.

ज़िन्दगी ये चाहती है कि ख़ुदकुशी कर लूँ,
मैं इस इन्तज़ार में हूँ कि कोई हादसा हो जाए।

Zindagi Tu Hi Bata Kaise Tujhse Pyar Karu,
Teri Har Ek Subah Meri Umr Kam Kar Deti Hai.

ज़िन्दगी तू ही बता कैसे तुझसे प्यार करू,
तेरी हर एक सुबह मेरी उम्र कम कर देती है।

Patang Si Hai Zindagi Kahan Tak Jaegi,
Raat Ho Ya Umr Ek Na Ek Din Kat Hi Jaeygi.

पतंग सी है ज़िन्दगी कहाँ तक जाएगी,
रात हो या उम्र एक ना एक दिन कट ही जाएगी।

Leave a Comment