Mera Imtehaan Kya Lega

Mera Imtehaan Kya Lega

Nazar Nazar Se Milegi To Sar Jhuka Lega,
Wo Bewafa Hai Mera Imtehaan Kya Lega,
Use Chirag Jalaane Ko Mat Keh Dena.
Wo Na Samajh Hai Kahin Ungliyan Jala Lega.

नज़र नज़र से मिलेगी तो सर झुका लेंगे,
वो बेवफा है मेरा इम्तहान क्या लेगा,
उसे चिराग जलाने को मत कह देना,
वो ना समझ है कहीं उँगलियाँ जला लेगा।

bewafa shayari hindi

Janaja Mera Uth Raha Tha,
Fir Bhi Takleef Thi Use Aane Me,
Bewafa Ghar Me Baithi Pooch Rahi Thi,
Aur Kitni Der Hai Dafnane Me.

जनाजा मेरा उठ रहा था,
फिर भी तकलीफ थी उसे आने में,
बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी,
और कितनी देर है दफनाने में।

Kho Gayi Meri Mohabbat
Bewafai Ke Daldal Me,
Magar Inn Aankho Ko Ab Bhi
Wafa Ki Talash Hai.

खो गई मेरी मोहब्बत
बेवफाई के दलदल में,
मगर इन आँखों को अब भी
वफ़ा की तलास है।

Leave a Comment