Mere Gam Ki Kahani

Mere Gam Ki Kahani

Chaha Tha Muqammal Ho Mere Gam Ki Kahani,
Main Likh Na Saka Kuchh Bhi Tere Naam Se Aage.

चाहा था मुक़म्मल हो मेरे गम की कहानी,
मैं लिख न सका कुछ भी तेरे नाम से आगे।

Dil Me Armaan Bahut Hain,
Zindagi Me Gam Bahut Hain,
Kab Ki Maar Dalti Yeh Duniya Hume,
Kambakht Dosto Ki Duaon Me Dum Bahut Hai.

दिल में अरमान बहुत हैं,
ज़िन्दगी में ग़म बहुत हैं,
कब की मार डालती यह दुनिया हमें,
कम्बख्त दोस्तों की दुआओं में दम बहुत है।

Mat Bnana Rishta Is Jahan Me,
Bahut Mushkil Unhen Nibhan Hoga,
Har Ek Rishta Ek Naya Gam Dega,
Ek Taraf Bebas Tu Aur Ek Taraf
Hansta Zmana Hoga.

मत बनाना रिश्ता इस जहां में,
बहुत मुश्किल उन्हें निभाना होगा,
हर एक रिश्ता एक नया ग़म देगा,
एक तरफ बेबस तू और एक तरफ
हँसता ज़माना होगा।

Gam Iska Nahi Ki Tu Mera Na Ho Saka,
Meri Mohabbat Me Mera Sahara Na Ban Saka,
Gam To Iska Bhi Nahi Ki Sukun Dil Ka Lut Gaya,
Gam To Iska Hai Ki Mohabbat Se Bharosa Hi Uth Gaya.

ग़म इसका नहीं कि तू मेरा न हो सका,
मेरी मोहब्बत में मेरा सहारा ना बन सका,
ग़म तो इसका भी नहीं कि सुकून दिल का लुट गया,
ग़म तो इसका है कि मोहब्बत से भरोसा ही उठ गया।

gam shayari

Leave a Comment