Mere Ghar Ramzan Ho

Mere Ghar Ramzan Ho

Aaj Fir Mujhe Iss Baat Ka Gumaan Ho,
Masjid Me Bhajan Mandir Me Azaan Ho,
Khoon Ka Rang Phir Ek Jaisa Ho,
Tum Manaao Diwali Mere Ghar Ramzan Ho.

आज मुझे फिर इस बात का गुमान हो,
मस्जिद में भजन मंदिरों में अज़ान हो,
खून का रंग फिर एक जैसा हो,
तुम मनाओ दिवाली मेरे घर रमजान हो।

Leave a Comment