Mere Jazbat Se Waqif

Mere Jazbat Se Waqif

Alfaz Ki Shaqal Me Ehsaas Likha Jata Hai,
Yeha Par Paani Ko Bhi Pyas Likha Jata Hai,
Mere Jazbat Se Waqif Hai Meri Kalam Bhi,
Pyar Likhun To Tera Naam Likha Jata Hai.

अल्फ़ाज़ की शकल में एह्सास लिखा जाता है,
यहां पर पानी को भी प्यास लिखा जाता है,
रे जज़्बात से वाकिफ है मेरी कलम भी,
प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिखा जाता है।

Leave a Comment