Meri Fitrat Me Nahi

Meri Fitrat Me Nahi

Meri Fitrat Me Nahi Apna Dard Bayaan Karna,
Agar Tere Wajood Ka Hissa Hun To Mehsoos Kar Mujhe.

मेरी फितरत में नहीं, अपना दर्द बयां करना,
अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूँ तो महसूस कर मुझे।

Shayari Me SimatTe Kahan Hai Dil Ke Dard Dosto,
Bahla Rahe Hain Khud Ko Jara Aap Logo Ke Saath.

शायरी मे सिमटते कहाँ है दिल के दर्द दोस्तो,
बहला रहे है खुद को जरा आप लोगो के साथ।

Shayari Ka Shauk Nahin, Aur Naahi Karobaar Mera,
Bas Dard Jab Sah Nahin Paata, To Likh Leta Hun.

शायरी का शौक नहीं, और नाही कारोबार मेरा,
बस दर्द जब सह नहीं पाता, तो लिख लेता हूँ।

Ruk Gayi Meri Kalam Dard-E-Dil Bayan Karate-Karate,
Meri Mohabbat Ko Usne Apna Rutba Samajh Liya.

रुक गयी मेरी कलम दर्द-ए-दिल बयाँ करते-करते,
मेरी मोहब्बत को उसने अपना रुतबा समझ लिया।

Chalo Chhodo Tumhen Kya Batana Muhabbat Ke Dard Ko,
Jaan Jaoge… To Jaan Se Jaoge….

चलो छोड़ो तुम्हें क्या बताना मुहब्बत के दर्द को,
जान जाओगे… तो जान से जाओगे…।

Leave a Comment