Meri Hasratein To Nikli

Meri Hasratein To Nikli

Aansu Ko Kabhi Os Ka Katra Na Samjhna,
Aisa Tumhen Chahat Ka Samundar Na Milega.

आँसू को कभी ओस का क़तरा न समझना,
ऐसा तुम्हें चाहत का समुंदर न मिलेगा।

Hue Jis Par Meharbaan Tum Koi Khush Nasheeb Hoga,
Meri Hasratein To Nikli Mere Aansuon Me DhalKar.

हुए जिस पर मेहरबान तुम कोई खुशनसीब होगा ,
मेरी हसरतें तो निकली मेरे आँशुओं में ढलकर।

Neend Me Bhi Girte Hain Meri Aankh Ke Aansu,
Jab Bhi Tum Khwaabo Me Mera Hath Chhod Dete Ho.

नींद में भी गिरते हैं मेरी आँखो से आँसू,
जब भी तुम ख्बाबो मे मेरा हाथ छोड़ देते हो।

Jo Teri Yaad Me Moti Ban Kar Bah Gaye,
Wo Aansu Jo Chupchaap Sab Kuchh Kah Gaye.

जो तेरी याद में मोती बन कर बह गए,
वो आँसू जो चुपचाप सब कुछ कह गए।

Leave a Comment