Meri Mehfil Me

Meri Mehfil Me

Fursat Nikal Kar Aao Kabhi Meri Mehfil Me,
LautTe Waqt Dil Nahin Paoge Apne Seene Me.

फुर्सत निकाल कर आओ कभी मेरी महफ़िल में,
लौटते वक्त दिल नहीं पाओगे अपने सीने में…!

Intezaar Ki Aarzoo Ab Kho Gayi Hai,
Khamoshiyon Ki Aadat Ho Gayi Hai,
Na Shikwa Raha Na Shikayat Kisi Se,
Agar Hai To Ek Mohabbat,
Jo In Tanhaiyon Se Ho Gayi Hai.

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियो की आदत हो गयी है,
न शिकवा रहा न शिकायत किसी से,
अगर है तो एक मोहब्बत,
जो इन तन्हाइयों से हो गई है।

Leave a Comment