Mijaaz Dil-e-Be-Ikhtiyar Ka

Mijaaz Dil-e-Be-Ikhtiyar Ka

Meri Bahar-o-Khizan Jiske Ikhtiyar Me Thi,
Mijaaz Uss Dil-e-Be-Ikhtiyar Ka Na Mila.

मेरी बहार-ओ-खिजान जिसके इख़्तियार में थी,
मिजाज़ उस दिल-ए-बे-इख़्तियार का न मिला।

Dil Wo Sahara Hai Jahan Hasrat-E-Saya Bhi Nahi,
Dil Wo Duniya Hai Jahan Rang Hai Ranai Hai.

दिल वो सहरा है जहाँ हसरत-ए-साया भी नहीं,
दिल वो दुनिया है जहाँ रंग है रानाई है।

Dil-E-Bahsi Ko Khwaish Hai Tumahare Dar Pe Aanr Ki,
Deewana Hai Wo Likin Baat Karta Hai Thikane Ki.

दिल-ए-वहशी को ख़्वाहिश है तुम्हारे दर पे आने की,
दिवाना है वो लेकिन बात करता है ठिकाने की।

Wafa Karni Bhi Seekho Ishq Ki Nagri Me Ai Dost,
Faqat Yun Dil Lagane Se Dilo Me Ghar Nahi Bante.

वफ़ा करनी भी सीखो इश्क़ की नगरी में ए दोस्त,
फ़क़त यूँ दिल लगाने से दिलों में घर नही बनते।

Dil Unko Denge Magar Hum Denge In Sharto Ke Sath,
Aajma Kar Jaanch Kar Sun Kar Samajh Kar Dekh Kar.

दिल उन्हें देंगे मगर हम देंगे इन शर्तों के साथ,
आज़मा कर जाँच कर सुन कर समझ कर देख कर।

Leave a Comment