Milabat Hai Tere Ishq Me

Milabat Hai Tere Ishq Me

Milabat Hai Tere Ishq Me Itr Aur Sharab Ki,
Warna Hum Kabhi Mahak To Kabhi Bahak Kyu Jate.

मिलावट है तेरे इश्क में इत्र और शराब की,
वरना हम कभी महक तो कभी बहक क्यों जाते।

Two Line Shayari Milabat Hai Tere Ishq Me

Hai Pareshaniyan Yun To, Bahut Si Zindagi Me,
Teri Mohabbat Sa Magar, Koi Tang Nahin Karta.

है परेशानियाँ यूँ तो, बहुत सी ज़िंदगी में,
तेरी मोहब्बत सा मगर, कोई तंग नहीं करता।

Koi Bhi Ho Har Khwaab To Achchha Nahi Hota,
Bahut Jyada Pyaar Bhi Achchha Nahin Hota Hai.

कोई भी हो हर ख़्वाब तो अच्छा नही होता,
बहुत ज्यादा प्यार भी अच्छा नहीं होता है।

Mushkil Bhi Tum Ho, Mera Hal Bhi Tum Ho,
Hoti Hai Jo Seene Me, Wo Halchal Bhi Tum Ho.

मुश्किल भी तुम हो, मेरा हल भी तुम हो,
होती है जो सीने में, वो हलचल भी तुम हो।

Leave a Comment