Milne Ki Aarzoo

Milne Ki Aarzoo

Milne Se Bhi Ajeez Hai Milne Ki Aarzoo,
Hai Vasl Se Bhi Jiyada Mazaa Intezar Mein.

मिलने से भी अजीब है मिलने की आरज़ू ,
है वस्ल से भी ज्यादा मज़ा इंतज़ार में।

Har Baar Usi Ki Guftgun Sau Baar Usi Ki Aarzoo,
Wo Paas Nahi Hota To Bhi Hai Mere Ru-B-Ru.

हर बार उसी से गुफ़्तगू सौ बार उसी की आरज़ू,
वो पास नहीं होता तो भी रहता है मेरे रूबरू।

Main Sametti Hun Khwaab Tere Teri Aarzoo,
Tara Hi Gham Teri Hi Tamnna Yaadein Teri,
Bahut Mashroof Hai Zindagi Meri.

मै समेटती हूँ ख्वाब तेरे तेरी आरजू,
तेरा ही गम तेरी ही तमन्ना यादें तेरी,
बहुत मशरूफ है ज़िन्दगी मेरी।

Aarzoo Si Dil Me Aksar Chhupaye Firta Hun,
Pyar Karta Hun Tujhse Par Kahne Se Darta Hun,
Kahin Naraj Na Ho Jao Meri Gustakhi Se Tum,
Isliye Khamosh Rahke Bhi Teri Dhadkano Ko Suna Karta Hun.

आरज़ू सी दिल में अक्सर छुपाये फिरता हूँ,
प्यार करता हूँ तुझसे पर कहने से डरता हूँ,
कही नाराज़ न हो जाओ मेरी गुस्ताखी से तुम,
इसलिए खामोश रहके भी तेरी धडकनों को सुना करता हूँ।

Leave a Comment