Mitti Meri Qabr Se

Mitti Meri Qabr Se

Mitti Meri Qabr Se Uthha Raha Hai Koi,
Marne Ke Baad Bhi Yaad Aa Raha Hai Koi,
Kuchh Pal Ki Mohlat Aur De De Aye Khuda.
Udaas Meri Kabr Se Ja Rahaa Hai Koi.

मिटटी मेरी कब्र से उठा रहा है कोई,
मरने के बाद भी याद आ रहा है कोई,
कुछ पल की मोहलत और दे दे ए खुदा,
उदास मेरी कब्र से जा रहा है कोई।

Maut Kabr Shayari - Mitti Meri Qabr Se

Dard Goonj Raha Dil Me Shahnyi Ki Tarah,
Jism Se Maut Ki Ye Sagai To Nahi,
Ab Andhera Mitega Kaise..
Tune Mere Ghar Me Shamma Jalayi To Nahin.

दर्द गूंज रहा दिल में शहनाई की तरह,
जिस्म से मौत की ये सगाई तो नहीं,
अब अंधेरा मिटेगा कैसे..
तूने मेरे घर में शम्मा जलाई तो नहीं।

Mahafil Bhi Royegi, Har Dil Bhi Royega,
Doobi Jo Meri Kashti To Saahil Bhi Royega,
Itna Pyar Bikher Denge Ham Is Duniya Me,
Ki Meri Maut Pe Mera Kaatil Bhi Royega.

महफ़िल भी रोयेगी, हर दिल भी रोयेगा,
डूबी जो मेरी कश्ती तो साहिल भी रोयेगा,
इतना प्यार बिखेर देंगे हम इस दुनीया में,
कि मेरी मौत पे मेरा कातिल भी रोयेगा।

Leave a Comment