Mohabbat Hasin Nahin Hoti

Mohabbat Hasin Nahin Hoti

Wo To Shayaron Ne Mohabbat Se Saza Rakha Hai,
Varna Mohabbat Itni Bhi Hasin Nahin Hoti.

वो तो शायरों ने लफ्जो से सजा रखा है,
वरना मोहब्बत इतनी भी हसीँ नही होती।

Sab Mujhe Hi Kahate Hain Ki Bhool Jao Use,
Koyi Use Kyu Nahi Kahta Ki Wo Meri Ho Jaye.

सब मुझे ही कहते हैं की भूल जाओ उसे,
कोई उसे क्यूँ नहीं कहता की वो मेरी हो जाए।

Nikal Gaya Talash Me Uski Main Paagalon Ki Tarah,
Jaise Mujhe Ab Intezaar Nahin Sanam Chaahiye.

निकल गया तलाश में उसकी मैं पागलों की तरह,
जैसे मुझे अब इंतज़ार नहीं सनम चाहिये।

Yahan Har Koyi Rakhta Hai Khabar Gairon Ke Gunahon Ki,
Ajab Fitarat Hai, Koyi Aaina Nahin Rakhta.

यहाँ हर कोई रखता है ख़बर ग़ैरों के गुनाहों की,
अजब फितरत हैं, कोई आइना नहीं रखता।

Juda Hokar Bhi Jee Rahe Hai Wo..
Jo Kabhi Kahte The Aisa Ho Hi Nahi Sakta.

जुदा होकर भी जी रहे है वो…
जो कभी कहते थे ऐसा हो ही नही सकता।

Leave a Comment