Mohabbat Ka Khumar

Mohabbat Ka Khumar

Mohabbat Ka Khumar Utra To, Ye Ehsaas Hua,
Jise Manjil Samajhte The, Wo To Bemaksad Rasta Nikla.

मोहब्बत का ख़ुमार उतरा तो, ये एहसास हुआ,
जिसे मन्ज़िल समझते थे, वो तो बेमक़सद रास्ता निकला।

Khushnaseeb Hain Bikhre Huye Ye Taash Ke Patte,
Bikharne Ke Baad Uthane Wala To Koi Hai Inako.

खुशनसीब हैं बिखरे हुए यह ताश के पत्ते,
बिखरने के बाद उठाने वाला तो कोई है इनको।

Kuchh Meetha Sa Nasha Tha Uski Jhuthi Baton Me,
Wakt Guzarta Gaya Aur Ham Aadi Ho Gaye.

कुछ मीठा सा नशा था उसकी झुठी बातों में,
वक्त गुज़रता गया और हम आदी हो गये।

Kitne Hi Baraso Ka Safar Khaak Hua,
Usne Jab Poochha, Kaho Kaise Aana Hua.

कितने ही बरसों का सफर खाक हुआ,
उसने जब पूछा, कहो कैसे आना हुआ।

Leave a Comment