Mohabbat Ka Savera

Mohabbat Ka Savera

Chal Chalen Kisi Aisi Jagah, Jahan Koi Na Tera Ho Na Ho,
Ishq Ki Raat Ho Aur Bus Mohabbat Ka Savera Ho.

चल चलें किसी ऐसी जगह जहाँ कोई न तेरा हो न मेरा हो,
इश्क़ की रात हो और…बस मोहब्बत का सवेरा हो।

Dil Ke Kisi Kone Mein Ab Koi Jagah Nahi,
Ke Tasveer Humne Har Taraf Teri Laga Di.

दिल के किसी कोने में अब कोई जगह नहीं,
के तस्वीर हमने हर तरफ तेरी लगा दी ।

Ek Hi Chehre Ki Ahmiyat Har Najar Me Alag Si Kyu Hai,
Usi Chehre Par Koi Khafa To Koi Fidaa Sa Kyu Hai.

एक ही चेहरे की अहमियत हर एक नजर में अलग सी क्यों है,
उसी चेहरे पर कोई खफा तो कोई फिदा सा क्यों है।

Ye Udi Udi Si Rangat Ye Khule Khule Se Gesu,
Teri Subah Keh Rahi HaiTeri Raat Ka Fasaana.

ये उड़ी उड़ी सी रंगत ये खुले खुले से गेसू,
तेरी सुबह कह रही है तेरी रात का फ़साना।

couple

Leave a Comment