Mohabbat Kab Thi Use

Mohabbat Kab Thi Use

Dillagi Thi Use Hum Se Mohabbat Kab Thi,
Mehfile Gair Se Uss Ko Fursat Kab Thi,
Kehte To Hum Mohabbat Me Fanaa Ho Jate,
Uss Ke Vaadon Me Par Wo Hakiqat Kab Thi.

दिल्लगी थी उसे हम से मोहब्बत कब थी,
महफिले गैर से उस को फुरसत कब थी,
कहते तो हम मोहब्बत में फ़ना हो जाते,
उसके वादों में पर वो हकीकत कहाँ थी। 

Leave a Comment