Mohabbat Ko Dil Me

Mohabbat Ko Dil Me

Kasoor Na Unka Hai Na Mera, Hum Dono Rishto Ki Rashme Nibhate Rahe,
Wo Dosti Ka Ehsaas Jatate Rahe, Hum Mohabbat Ko Dil Me Chhupate Rahe.

कसूर ना उनका है ना मेरा, हम दोनो रिश्तों की रसमें निभाते रहे,
वो दोस्ती का एहसास जताते रहे, हम मोहबत को दिल में छुपाते रहे।

Aayina Phaila Raha Hai Khud Farebi Ka Ye Marz,
Har Kisi Se Keh Raha Hai Aapsa Koi Nai.

आईना फैला रहा है खुद फरेबी का ये मर्ज,
हर किसी से कह रहा है आपसा कोई नहीं।

Safar Me Koi Kisi Ke Liye Theharta Nahi,
Na Mud Ke Dekha Kabhi Sahilon Ko Dariya Ne.
~ Farigh Bukhari

सफ़र में कोई किसी के लिए ठहरता नहीं,
न मुड़ के देखा कभी साहिलों को दरिया ने।

Bane Hain Ahal-E-Hawas Muddai Bhi Munsif Bhi,
Kise Vakeel Karein Kisse Munsifi Chaahen.
~ Faiz Ahmad Faiz

बने हैं अहल-ए-हवस मुद्दे भी मुंसिफ भी,
किसे वकील करें किससे मुंसिफी चाह।

Raat Unko Baat Baat Pe Sau Sau Diye Jawab,
Mujhko Khud Apne Aap Se Aisa Gumaan Na Tha.

रात उनको बात बात पे सौ सौ दिए जवाब,
मुझको खुद अपने आप से ऐसा गुमान न था।

Leave a Comment