Mohabbat Nibha To Di

Mohabbat Nibha To Di

Apni Tabahiyon Ka Mujhe Gam To Hai Magar,
Tum Ne Kisi Ke Saath Mohabbat Nibha To Di.

अपनी तबाहियों का मुझे गम तो है मगर,
तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी।

very sad girl

Aur Bhi Gam Hain Zamane Me Mohabbat Ke Siway,
Raahtein Aur Bhi Hain Vasl Ki Rahat Ki Siway.

और भी गम हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवाए,
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत की सिवाय।

Dil Na-Umeed To Nahi, Nakaam Hi To Hai,
Lambi Hai Gham Ki Shaam, Magar Shaam Hi To Hai।

दिल न-उम्मीद तो नहीं, नाकाम ही तो है,
लम्बी है गम कि शाम मगर शाम ही तो है।

Leave a Comment