Mujhe To Tera Intezar

Mujhe To Tera Intezar

Wafa Me Ab Ye Hunar Ikhtiyar Karna Hai,
Wo Sach Kahe Ya Na Kahe Bas Aitbar Karna Hai,
Ye Tujhko Jagte Rahne Ka Shauq Kab Se Hua,
Mujhe To Khair Tera Intezar Karna Hai.

वफ़ा में अब ये हुनर इख्तियार करना है,
वो सच कहें या न कहें बस ऐतबार करना है,
ये तुझको जागते रहने का शौक कब से हुआ,
मुझे तो खैर तेरा इंतजार करना है।

Leave a Comment