Mujhse Bhi Bure Hain Log

Mujhse Bhi Bure Hain Log

Mere Bare Mein Apni Soch Ko Thoda Badal Ke Dekh,
Mujhse Bhi Bure Hain Log Tu Ghar Se Nikal Ke Dekh.

मेरे बारे में अपनी सोच को थोड़ा बदल के देख,
मुझसे भी बुरे हैं लोग तू घर से निकल के देख।

Attitude Shayari - Mujhse Bhi Bure Hain Log

Mujh Ko Parakhne Ki Koshish Bhi Na Karna,
Pahle Bhi Kai Toofano Ki Raahen Mod Chuka Hoon.

मुझ को परखने की कोशिश भी न करना,
पहले भी कई तूफानों की राहें मोड़ चुका हूँ।

Be-Maut Maar Hi Daale Jo Ye Jahaan Wale,
Ham Jinda Hain To Jeene Ka Hunar Bhi Rakhte Hai.

बे-मौत मार ही डाले जो ये जहाँ वाले,
हम जिन्दा हैं तो जीने का हुनर भी रखते है।

Tufano Ka Rukh Modne Ka Jigar To Rakhte Hain,
Hamen Aashiqi Ki Numaish Ka Shauk Nahin Hai.

तुफानो का रुख मोड़ने का जिगर तो रखते हैं,
हमें आशिक़ी की नुमाइश का शौक नहीं है।

Mujhe Dekhkar Na Kar Mere Hunar Ka Faisla,
Tera Vajood Mit Jayega Meri Hakeekat Dhoondhte Dhoondhte.

मुझे देखकर न कर मेरे हुनर का फ़ैसला,
तेरा वजूद मिट जायेगा मेरी हकीकत ढूंढ़ते ढूंढ़ते।

Gurur Itna Nahin Achchha Tu Sun Le Pahle Jane Ke,
Palatne Par Badal Sakta Hoon Tujhko Pahchanne Se Bhi.

गुरुर इतना नहीं अच्छा तू सुन ले पहले जाने के,
पलटने पर बदल सकता हूँ तुझको पहचानने से भी।

Leave a Comment