Mujhse Juda Kehte Hain

Mujhse Juda Kehte Hain

Ho Judai Ka Sabab Kuchh Bhi Magar,
Use Hum Apni Khata Kehte Hain,
Wo To Saanso Me Basi Hai Mere,
Jane Kyun Log Mujhse Juda Kehte Hain.

हो जुदाई का सबब कुछ भी मगर,
उसे हम अपनी खता कहते हैं,
वो तो साँसों में बसी है मेरे,
जाने क्यों लोग मुझसे जुदा कहते है।

Insan Kahan Marta Hai Auron Ka Mara Hua,
Insan Ko Khud Uski Tanhai Maar Deti Hai,
Yun To Ji Bhi Sakta Hai Yeh Yaar Ki Judai Mein,
Magar Isko To Yahan Jag Hansayi Maar Deti Hai.

इंसान कहाँ मरता है औरों का मारा हुआ,
इंसान को खुद उसकी तन्हाई मार देती है,
यूँ तो जी भी सकता है यह यार की जुदाई में,
मगर इसको तो यहाँ जग हँसाई मार देती है।

Leave a Comment