Na Khushi Ki Talash Hai

Na Khushi Ki Talash Hai

Na Khushi Ki Talash Hai Na Gam-E-Nijat Ki Arzoo,
Mai Khud Se Naraj Hun… Teri Berukhi Ke Baad.

ना ख़ुशी की तलाश है ना गम-ए-निजात की आरज़ू,
मैं खुद से नाराज़ हूँ… तेरी बेरुखी के बाद।

couple image

Gham-e-Hayaat Pareshaan Na Kar Sakega Mujhe,
Ki Aa Geya Hai Hunar Mujh Ko Muskurane Ka.

गम-ए-हयात परेशान न कर सकेगा मुझे,
कि आ गया है मुझ को हुनर मुस्कुराने का।

Hamein To Kaatni Hai Sham-e-Gham Mein Zindagi Apni,
Jahan Woh Hain Wahin Ai Chaand Le Jaa Chaandni Apni.

हमें तो काटनी है शाम-ए-ग़म में ज़िन्दगी अपनी,
जहाँ वो हैं वहीं ऐ चाँद ले जा चाँदनी अपनी।

Gham ki baarish ne bhi tere naqsh ko dhoya nahi,
Tu ne mujh ko kho diya, maine tujhe khoya nahi.

ग़म की बारिश ने भी तेरे नक्स को धोया नहीं,
तू ने मुझ को खो दिया, मैंने तुझे खोया नहीं।

Leave a Comment