Nasheeli Aankhon Se

Nasheeli Aankhon Se

Nasheeli Aankhon Se Wo Jab Hamen Dekhte Hain,
Hum Ghabra Ke Apni Aankhein Jhuka Lete Hain,
Kaise Milaaye Hum Un Aankhon Se Aankhein,
Suna Hai Wo Aankhon Se Apna Bana Lete Hai.

नशीली आंखो से वो जब हमें देखते हैं,
हम घबरा के अपनी ऑंखें झुका लेते हैं,
कैसे मिलाए हम उन आँखों से आँखें,
सुना है वो आँखों से अपना बना लेते हैं।

Aankhein Shayari, Nasheeli Aankhon Se

Teri Har Adaa Nasheeli Hai
Itni Kisi Aur Nashe Ki Jarurat Hi Na Pada,
Doob Jana Chahta Hun Teri Aankon Mein
Itna Ki Nikalne Ki Jarurat Na Pade.

तेरी हर अदा नशीली है इतनी की
किसी और नशे की जरुरत ही न पड़े,
डूब जाना चाहता हूँ तेरी आँखों में
इतना की निकलने की जरुरत न पड़े।

Wo Kahne Lagi Naqab Ke Pichhe Bhi
Pahechan Lete Ho Hazaron Ke Beech
Meine Mushkura Kar Kaha Teri Aankhon Se Hi
Shuru Huwa Tha Ishq Hajaron Ke Bich

वो कहने लगी नकाब के पीछे भी
पहचान लेते हो हजारो के बीच,
मैंने मुश्कुरा कर कहा तेरी आखों से ही शुरू
हुआ था इश्क हजारो के बीच।

Leave a Comment