Nazar Me Phool Maheke

Nazar Me Phool Maheke

Phir Nazar Me Phool Maheke Dil Me Phir Shama Jali,
Phir Tasawwur Ne Liya Uss Bazm Me Jaane Ka Naam.

फिर नजर में फूल महके दिल में फिर शमा जली,
फिर तसव्वुर ने लिया उस बज़्म में जाने का नाम।

Leave a Comment