Nigah-e-Lutf Se

Nigah-e-Lutf Se

Nigah-e-Lutf Se Ek Baar Mujhko Dekh Lete Hain,
Mujhe Bechain Karna Jab Unhen Manjoor Hota Hai.

निगाह-ए-लुत्फ़ से एक बार मुझको देख लेते हैं,
मुझको बेचैन करना जब उन्हें मंजूर होता है ।

Nigah-e-Lutf Se, Aankhen Shayari

Sharma Kar Jhuk Rahi Hain Humari Nigahen,
Kaha Tha Na Ki Itne Kareeb Mat Aao.

शरमा कर झुक रही है हमारी निगाहें,
कहा था ना कि इतने करीब मत आओ।

Kaash Nigaahen Fer Lene Se,
Talluk Bhi Khatm Ho Paate.

काश… निगाहें फेर लेने से,
ताल्लुक भी खत्म हो पाते।

Chalo Achha Hua Ki Dhundh Padne Lagi,
Door Tak Takti Thi Naigaahen Tujhe Ai Sanam.

चलो अच्छा हुआ कि अब धुंध पड़ने लगी,
दूर तक तकती थीं निगाहें तुझे ऐ सनम।

Hum To Fana Ho Gaye UnKi Aankhen Dekh Kar Galib,
Na Jane Wo Aaina Kaise Dekhte Honge.

हम तो फ़ना हो गए उन को की आँखें देख कर ग़ालिब
ने जाने वो आईना कैसे देखते होंगे।

Leave a Comment