Nikla Karo Idhar Se

Nikla Karo Idhar Se

Nikla Karo Idhar Se Bhi Hokar Kabhi Kabhi,
Aaya Karo Humare Bhi Ghar Par Kabhi Kabhi,
Mana Ke Ruthh Jana Yun Aadat Hai Aapki,
Lagte Magar Hain Achhe Ye Tevar Kabhi Kabhi.

निकला करो इधर से भी होकर कभी कभी,
आया करो हमारे भी घर पर कभी कभी,
माना के रूठ जाना यूँ आदत है आपकी,
लगते मगर हैं अच्छे ये तेवर कभी कभी।

Sham Ko Qayamat Ka Rang Gahra Padega
Hukumat Hai Gerue Ki Pyar Pe Pahara Rahega,
Ab Bhi Waqt Hai Sambhal Ja Meri Jaan
Zara Sirafira Hun Ye Pyar Tumhe Manhga Padega.

शाम को क़यामत का रंग गहरा पड़ेगा
हुक़ूमत है गेरुए की प्यार पे पहरा रहेगा,
अब भी वक़्त है संभल जा मेरी जान
ज़रा सिरफ़िरा हूँ ये प्यार तुम्हे मंहगा पड़ेगा।

Pakar Aahat Teri…
Har Dafa Jharokhe Se Dekhta Hun Tujhe,
Mohabbat To Kai Dekhi Hain Magar
Ai Dil Tujhsa Koi Chor Nahin Dekha.

पाकर आहट तेरी…
हर दफ़ा झरोखे से देखता हूँ तुझे,
मोहब्बत तो कई देखी हैं मगर
ऐ दिल तुझसा कोई चोर नहीं देखा।

Leave a Comment