Noor Ki Barish

Noor Ki Barish

Kash Ke Baras Jaye Yahan Bhi Kuch Noor Ki Barish ,
Ke Emaan Ke Shishon Pe Badi Gard Jami Hai,
Us Tasveer Ko Bhi Kar De Taza,
Jinki Yaad Humare Dil Me Dhudhli Huyi Hai.

काश के बरस जाये यहाँ भी कुछ नूर की बारिशें,
के ईमान के शीशों पे बड़ी गर्द जमी है,
उस तस्वीर को भी कर दे ताज़ा,
जिनकी याद हमारे दिल में धुंधली हुई है।

girl sad

Khud Bhi Rota Hai Mujhe Bhi Rula Deta Hai,
Ye Barish Ka Mausam Uski Yaad Dila Deta Hai.

खुद भी रोता है मुझे भी रुला देता है,
ये बारिश का मौसम उसकी याद दिला देता है।

Leave a Comment