Paane Ka Afsos

Paane Ka Afsos

Iska Afsos Hai Ki Ham Tujhe Pa Na Sake,
Dilruba Teri Panaho Me Sar Chhupa Na Sake.

इसका अफसोस है कि हम तुझे पा न सके,
दिलरुबा तेरी इन बाँहों में सर छुपा न सके।

sad man

Na Afsos Hai Tujhe Na Koi Sharmindagi Hai,
Guzar Rahi Hai Gunaahon Mein Yeh Kaisi Zindagi Hai.

न अफ़सोस है तुझे न कोई शर्मिंदगी है,
गुजर रही है गुनाहों में यह कैसी ज़िन्दगी है।

Kitne Majboor Hain Hum Takdeer Ke Aage,
Na Tumhe Paane Ki Aukat Rakhte Hain
Aur Na Tumhe Khone Ka Hausala.

कितने मजबूर हैं हम तकदीर के आगे,
न तुम्हे पाने की औकात रखते हैं 
और न तुम्हे खोने का हौसला ।

Leave a Comment