Pal Se Bana Lamha

Pal Se Bana Lamha

Tinkon Se Bana Pal, Pal Se Bana Lamha,
Aur Lamhon Ne Waqt Ko Chuna,
Har Pal Koi Kisi Ke Saath Nahin Rah Sakta,
Isiliye To Khuda Ne Yaado Ko Chuna.

तिनकों से बना पल, पल से बना लम्हा,
और लम्हों ने वक़्त को चुना,
हर पल कोई किसी के साथ नहीं रह सकता,
इसीलिए तो खुदा ने यादों को चुना।

Agar Zindagi Me Judai Na Hoti
To Kabhi Kisi Ki Yaad Aayi Na Hoti,
Saath Gujarta Har Lamha To Sayad
Rishto Me Yeh Gahrai Na Hoti.

अगर ज़िंदगी में जुदाई ना होती
तो कभी किसी की याद आयी ना होती,
साथ गुज़रता हर लम्हा तो शायद
रिश्तों में यह गहराई ना होती।

lamha shayari

Sard Raato Ko Satati Hai Judai Teri,
Aag Bujhti Nahin Seene Me Lagi Teri,
Tum Jo Kahte The Bicchad Kar Main Sukun Pa Lunga,
Phir Kyun Roti Hai Tere Dar Pr Tanhai Teri.

सर्द रातों को सताती है जुदाई तेरी,
आग बुझाती नहीं सीने में लगायी तेरी,
तुम जो कहते थे बिछड़ कर मैं सुकून पा लूंगा,
फिर क्यों रोती है मेरे दर पर तन्हाई तेरी।

Har Lamha Hum Unhe Yaad Karte Rahe,
Unki Yaad Me Mar-Mar Ke Jeete Rahe,
Ashk Aankhon Se Humari Bhate Rahen,
Judai Me Unki Ashko Ke Jaam Peete Rahen.

हर लम्हा हम उन्हें याद करते रहे,
उनकी याद में मर-मर के जीते रहे,
अश्क़ आँखों से हमारी बहते रहे,
जुदाई में उनकी अश्क़ों के जाम पीते रहे।

Leave a Comment