Pareshan Ki Pareshani Ko

Pareshan Ki Pareshani Ko

Humare Dil Ki Haalat Gesu-e-Mahboob Jaane Hai,
Pareshan Ki Pareshani Ko Pareshan Khub Jaane Hai.

हमारे दिल की हालत गेसू-ए-महबूब जाने है,
परेशान की परेशानी को परेशान खूब जाने है।

Gesu-e-Mahboob -Zulf Shayari

Badee Beadab Hain Julfen Aapki
Har Wo Hissa Choomati Hain Jo Khwaahish Hai Meri.

बड़ी बेअदब हैं जुल्फें आपकी,
हर वो हिस्सा चूमती हैं जो ख्वाहिश है मेरी।

Teri Zulf Kya Sanwarei Meri Kismat Nikhar Gayi,
Uljhane Tamaam Meri Do Lat Me Sanwar Gayi.

तेरी ज़ुल्फ़ क्या संवारी मेरी किस्मत निखर गयी,
उलझने तमाम मेरी दो लट में संवर गयी।

Chehare Pe Mere Zulf Ko Phailao Kisi Din,
Kyu Roz Garajte Ho Baras Jao Kisi Din.

चेहरे पे मेरे ज़ुल्फ़ को फैलाओ किसी दिन,
क्यों रोज़ गरजते हो बरस जाओ किसी दिन।

Leave a Comment