Peene De Sharab

Peene De Sharab

Peene De Sharab Masjid Me Baithkar,
Ya Wo Jagah Bata Jahan Khuda Nahin.

पीने दे शराब मस्जिद में बैठ कर,
या वो जगह बता जहाँ खुदा नहीं।

Jigar Ki Aag Bujhe Jisse Jald Wo Shay La,
Laga Ke Barf Me Saqi, Surahi-E-May La.

जिगर की आग बुझे जिससे जल्द वो शय ला,
लगा के बर्फ़ में साक़ी, सुराही-ए-मय ला।

Ai Zauq Dekh Dukhtar-E-Raz Ko Na Munh Laga,
ChhutTi Nahin Hai Munh Se Ye Kafar Lagi Hui.

ऐ ज़ौक़ देख दुख़्तर-ए-रज़ को न मुँह लगा,
छुटती नहीं है मुँह से ये काफ़र लगी हुई।

Baat Sajdon Ki Nahin Neeyat Ki Hai,
Maykhane Me Har Koi Sharabi Nahin Hota.

बात सजदों की नहीं नीयत की है,
मयखाने में हर कोई शराबी नहीं होता।

Kuchh Bhi Na Bacha Kahne Ko Har Baat Ho Gayi,
Aao Chalo Sharab Piyen Raat Ho Gayi.

कुछ भी ना बचा कहने को हर बात हो गयी,
आओ चलो शराब पियें रात हो गयी।

Leave a Comment