Pilaaye Ja Saqi

Pilaaye Ja Saqi

Nigah-e-Mast Se Mujhko Pilaaye Ja Saqi,
Haseen Nigaah Bhi Jaam-e-Sharab Hoti Hai.

निगाह-ए-मस्त से मुझको पिलाये जा साकी,
हसीन निगाह भी जाम-ए-शराब होती है।

Main To Jab Manun Miri Tauba Ke Baad
Kar Ke Majaboor Pila De Saqi

मैं तो जब मानूँ मिरी तौबा के बाद,
कर के मजबूर पिला दे साक़ी।

Mast Karna Hai To Khud Munh Se Laga De Saqi,
Tu Pilaega Kahan Tak Mujhe Paimane Se. 

मस्त करना है तो ख़ुद मुँह से लगा दे साक़ी,
तू पिलाएगा कहाँ तक मुझे पैमाने से।

Saqi Zara Nigaah Mila Kar To Dekhana,
Kambakht Hosh Me To Nahin Aa Gaya Hun Main.

साक़ी ज़रा निगाह मिला कर तो देखना,
कम्बख़्त होश में तो नहीं आ गया हूँ मैं।

Leave a Comment