Rang-e-Lab Se Talab

Rang-e-Lab Se Talab

Agar Sharar Hai To Bhadke Jo Phool Hai To Khile,
Tarah Tarah Ki Talab Tere Rang-e-Lab Se Hai.

अगर शरार है तो भड़के जो फूल है तो खिले,
तरह तरह की तलब तेरे रंग-ए-लब से है।

Leave a Comment