Raqeebon Se Nibhayi Tumne

Raqeebon Se Nibhayi Tumne

Gam Yeh Nahi Ke Qasam Apni Bhulayi Tumne,
Gam To Ye Hai Ke Raqeebon Se Nibhayi Tumne,
Koi Ranjish Thi Agar Tum Ko To MujhSe Kehte,
Baat Aapas Ki Thi Kyun Sab Ko Batayi Tumne.

गम यह नहीं के क़सम अपनी भुलाई तुमने,
ग़म तो ये है के रकीबों से निभाई तुमने,
कोई रंजिश थी अगर तुम को तो मुझसे कहते,
बात आपस की थी क्यों सबको बतायी तुमने।

gam shayari

Mohabbat Ke Bhi Kuch Andaaz Hote Hain,
Jagti Aankhon Ke Bhi Kuch Khwaab Hote Hain,
Jaruri Nahi Ki Gam Me Bhi Aansu Niklen,
Muskurati Aankhon Me Bhi Sailab Hote Hain.

मोहब्बत के भी कुछ अंदाज़ होते हैं,
जागती आँखों के भी कुछ ख्वाब होते हैं,
जरुरी नहीं कि गम में ही आँसू निकलें,
मुस्कुराती आँखों में भी सैलाब होते हैं।

Gam Ne Hansne Na Diya, Jamane Ne Rone Na Diya,
Is Uljhan Ne Jeene Na Diya,
Thak Ke Jab Sitaron Se Panah Li,
Neend Aayi To Uski Yaad Ne Sone Na Diya.

ग़म ने हंसने ना दिया, ज़माने ने रोने ना दिया,
इस उलझन ने जीने ना दिया,
थक के जब सितारों से पनाह ली,
नींद आयी तो आपकी याद ने सोने ना दिया।

Leave a Comment