Ret Par Likh Ke

Ret Par Likh Ke

Ret Par Likh Ke Mera Naam Mitaya Na Karo,
Aankh Sach Bolti Hai Pyar Chhupaya Na Karo,
Log Har Baat Ka Afsaana Bana Lete Hain,
Sabko Haalat Ki Rudaad Sunaya Na Karo.

रेत पर लिख के मेरा नाम मिटाया न करो,
आँख सच बोलती है प्यार छुपाया न करो,
लोग हर बात का अफसाना बना लेते हैं,
सबको हालात की रुदाद सुनाया न करो।

ret par naam

Kasoor Na Unka Tha Na Hamara Tha,
Hum Dono Hi Rishto Ki Rasam Nibhate Rahe,
Wo Dosti Ka Ehsaas Jatate Rahe,
Aur Hum Mohabbat Ko Dil Me Chhupate Rahe.

कसूर ना उनका था ना हमारा था,
हम दोनों ही रिश्तों की रसम निभाते रहे,
वो दोस्ती का एहसास जताते रहे,
और हम मोहब्बत को दिल में छुपाते रहे।

Pyar Me Koi To Dil Torh Deta Hai,
Dosti Me Koi To Bharosa Torh Deta Hai,
Zindagi Jeena To Koi Gulaab Se Seekhe,
Jo Khud Toot Kar Do Dilo Ko Jod Deta Hai.

प्यार में कोई तो दिल तोड़ देता है,
दोस्ती मेँ कोई तो भरोसा तोड़ देता है,
जिंदगी जीना तो कोई गुलाब से सीखे,
जो खुद टूट कर दो दिलों को जोड़ देता है।

Leave a Comment