Rindane-Jahan Se Nafrat

Rindane-Jahan Se Nafrat

Rindane-Jahan Se Ye Nafrat
Ai Hazrat-e-Vaiz Kya Kehna,
Allah Ke Aage Bas Na Chala
Bando Se Bagawat Kar Baithe.

रिन्दाने-जहाँ से ये नफरत
ऐ हज़रत-ए-विज क्या कहना,
अल्लाह के आगे बस न चला,
बन्दों से बगावत कर बैठे।

Ai Sharab Mujhe Tumse Mohabbat Nahi,
Mujhe To Un Palon Se Mohabbat Hai,
Jo Tumhare Kaaran Main Apne
Doston Ke Saath Bitaata Hoon.

ए शराब मुझे तुमसे मोहब्बत नही,
मुझे तो उन पलों से मोहब्बत है,
जो तुम्हारे कारण मै अपने
दोस्तों के साथ बिताता हूँ।

Na Peene Ka Shauk Tha, Na Pilane Ka Shauk Tha,
Hame To Sirf Nazar Milane Ka Shauk Tha,
Par Kya Kare Yaaro, Ham Nazar Hi Unse Mila Baithe,
Jinhen Sirf Nazaron Se Pilane Ka Shauk Tha.

ना पीने का शौक था, ना पिलाने का शौक था,
हमे तो सिर्फ नज़र मिलाने का शौक था,
पर क्या करे यारो, हम नज़र ही उनसे मिला बैठे,
जिन्हें सिर्फ नज़रों से पिलाने का शौक था।

Leave a Comment