Risste Huye Zakhm

Risste Huye Zakhm

Gair Mumkin Hai Tere Ghar Ke Gulabon Me Shumar,
Mere Risste Huye Zakhmo Ke Hisaabon Ki Tarah.

गैर मुमकिन है तेरे घर के गुलाबों में शुमार,
मेरे रिस्ते हुए ज़ख्मो के हिसाबो की तरह।

Hurt Shayari

Leave a Comment