Saal Purana Lagta Hai

Saal Purana Lagta Hai

Baise Hi Din Baisi Hi Raate Hain Ghalib, Bahi Roj Ka Fasana Lagta Hai,
Abhi Mahina Bhi Nahin Gujra Aur Ye Saal Purana Lagta Hai.

वैसे ही दिन वैसी ही रातें हैं ग़ालिब, वही रोज का फ़साना लगता है,
अभी महीना भी नहीं गुजरा और यह साल अभी से पुराना लगता है।

Khoob Hausla Barhaya Aandhiyon Ne Dhool Ka,
Magar Do Boond Barish Ne Aukaat Bata Di.

खूब हौसला बढ़ाया आँधियों ने धूल का,
मगर दो बूँद बारिश ने औकात बता दी।

Ruki-Ruki See Lag Rahi Hai Nabj-E-Hayaat,
Ye Kaun Uth Ke Gaya Hai Mere Sirahaane Se.

रुकी-रुकी सी लग रही है नब्ज-ए-हयात,
ये कौन उठ के गया है मेरे सिरहाने से।

Nigaahon Se Bhi Chot Lagati Hai… Janaab,
Jab Koi Dekhkar Bhi Andekha Kar Deta Hai.

निगाहों से भी चोट लगती है… जनाब,
जब कोई देखकर भी अनदेखा कर देता है।

Leave a Comment