Saaye Bhi Rooth Gaye

Saaye Bhi Rooth Gaye

Har Khusi Ke Pahlu Haaton Se Chhut Gaye,
Ab To Khud Ke Saaye Bhi Rooth Gaye.

हर खुशी के पहलू हातों से छुट गए,
अब तो खुद के साए भी रूठ गए।

Azeez Itna Hi Rakkho Ki Jee Sanbhal Jaye,
Ab Is Qadar Bhi Na Chaaho Ki Dam Nikal Jaye.

अज़ीज़ इतना ही रक्खो कि जी सँभल जाए,
अब इस क़दर भी न चाहो कि दम निकल जाए।

Chalane Ka Hausla Nahin Rukna Muhaal Kar Diya,
Ishq Ke Is Safar Ne To Mujh Ko Nidhaal Kar Diya.

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया,
इश्क़ के इस सफ़र ने तो मुझ को निढाल कर दिया।

Jinke Dil Par Chot Lagati Hai Na Doston,
Wo Aankhon Se Nahin Dil Se Rote Hain.

जिनके दिल पर चोट लगती है ना दोस्तों
वो आंखों से नहीं दिल से रोते है।

Girate Huye Aansuon Ko Kaun Dekhta Hai
Jhoothi Muskaan Ke Deewane Hain Sab Yahan.

गिरते हुए आँसुओं को कौन देखता है
झूठी मुस्कान के दीवाने हैं सब यहाँ।

Leave a Comment