Sab Rulaate Bahut Hain

Sab Rulaate Bahut Hain

Mohabbat Ke Sapne Wo Dikhaate Bahut Hain,
Raaton Me Wo Humko Jagaate Bahut Hain,
Main Aankho Me Kajal Lagaun To Kaise,
Inn Aankho Ko Sab Rulaate Bahut Hain.

मोहब्बत के सपने वो दिखाते बहुत हैं,
रातों में वो हमको जगाते à¤¬à¤¹à¥à¤¤ हैं,
मैं आँखों में काजल लगाऊ तो कैसे,
इन आँखों को सब रुलाते बहुत हैं।

Labo Par Tarannum Ke Aankhon Me Aansu,
Ke Hum Ro Diye Muskurane Se Pahle,
Barsti Rahi Mustkil Meri Aankhein,
Bahut Yaad Aaye Tum Aane Se Pahle.

लबो पर तरन्नुम के आँखों में आँसू,
के हम रो दिए मुस्कुराने से पहले,
बरसती रहीं मुश्तकिल मेरी आँखे,
बहुत याद आए तुम आने से पहले।

Jis Din Band Kar Li Humne Ankhein,
Kai Ankhon Se Us Din Aansu Barsenge,
Jo Kehte Hain Ki Bahut Tang Karte Hai Hum,
Wahi Humari Ek Shararat Ko Tarsenge.

जिस दिन बंद कर ली हमने आंखें,
कई आँखों से उस दिन आँसू बरसेंगे,
जो कहते हैं कि बहुत तंग करते है हम,
वही हमारी एक शरारत को तरसेंगे।

Leave a Comment