Sad Life Shayari, Zindagi Nikharti Rahi

Sad Life Shayari, Zindagi Nikharti Rahi

Joojhti Rahi…. Bikharti Rahi… TootTi Rahi,
Kuchh Is Tarah Zindagi… Nikharti Rahi.

जूझती रही… बिखरती रही… टूटती रही,
कुछ इस तरह ज़िन्दगी…  निखरती रही।

Zindagi Nikharti Rahi - Life Shayari

Ye Tanha Si Zindagi Darati Hai Mujhe Har Shaam,
Ehsaan Hai Ki Ek Khokhli Himmat Deta Hai Ye Jaam.

ये तन्हा सी ज़िन्दगी डराती है मुझे हर शाम,
एहसान है की एक खोखली हिम्मत देता है ये जाम।

Ye Na Poochhna Zindagi Khushi Kab Deti Hai,
Kyonki Shikayaten Unhe Bhi Hai Jinhen Zindagi Sab Deti Hai.

ये ना पूछना जिन्दगी खुशी कब देती है,
क्योंकि शिकायतें उन्हे भी है जिन्हें जिन्दगी सब देती है।

Itni Thokaren Dene Ke Liye Shukriya Ai-Zindagi,
Chalne Ka Na Sahi Sanbhalne Ka Hunar To Aa Gaya.

इतनी ठोकरें देने के लिए शुक्रिया ऐ-ज़िन्दगी,
चलने का न सही सँभलने का हुनर तो आ गया।

Kiske Naqshe-Kadam Hai Tu, Ai Zindagi,
Waqt Si Raftar Bhi Nahin, Zamane Se Tujhe Pyar Bhi Nahin.

किसके नक़्शे-कदम है तू, ए ज़िन्दगी,
वक़्त सी रफ़्तार भी नहीं, ज़माने से तुझे प्यार भी नहीं।

Zindagi Ye Chahati Hai Ki Khudkushi Kar Loon,
Main Is Intezaar Mein Hoon Ki Koi Hadsa Ho Jaye.

ज़िन्दगी ये चाहती है कि ख़ुदकुशी कर लूँ,
मैं इस इन्तज़ार में हूँ कि कोई हादसा हो जाए।

Leave a Comment