Sadaf Ki Kya Hakikat, Aansu Shayari

Sadaf Ki Kya Hakikat, Aansu Shayari

Humare Dil Me Na Aao Warna Doob Jaaoge Tum,
Gham Ke Aansu Ka Samandar Hai Mere Andar.

हमारे दिल में न आओ वर्ना डूब जाओगे,
गम के आँसू का समंदर है मेरे अन्दर।

Sadaf Ki Kya Hakikat hai, Agar Usme Na Ho Gouhar,
Na Kyun Kar Aabru Ho Aankh Ki Maukuf Aansu Par.

सदफ की क्या हकीकत है, अगर उसमें न हो गौहर,
न क्यों कर आबरू हो आंख की मौकूफ आंसू पर।

Kya Likhu Main Dil Ki Haqeeqat Aarzoo Behosh Hai,
Khat Par Aansu Beh Rahe Hain Aur Kalam Khamosh Hai.

क्या लिखूं मैं दिल की हकीकत आरजू बेहोश है,
ख़त पर आँसू बह रहे हैं और कलम खामोश है।

Leave a Comment