Sanam Ki Khata

Sanam Ki Khata

Kiya Ishq Ne Mera Haal Kuch Aisa,
Na Apni Khabar Na Hi Dil Ka Pata Hai,
Kasoorwar Thi Meri Ye Daur-E-Jabani,
Main Samajhta Raha Sanam Ki Khata Hai.

किया इश्क़ ने मेरा हाल कुछ ऐसा,
ना अपनी खबर ना ही दिल का पता है,
कसूरवार थी मेरी ये दौर-ए-जवानी,
मैं समझता रहा सनम की खता है।

Leave a Comment