Sansar Ko Badalta Hai

Sansar Ko Badalta Hai

Sangharsh Ke Maargh Par Jo Veer Chalta Hai,
Wo Hi Is Sansar Ko Badalta Hai,
Jisne Andhkaar Musibat Aur Khud Se Jang Jeeti,
Surya Bankar Bahi Nikalta Hai.

संघर्ष के à¤®à¤¾à¤°à¥à¤— पर जो वीर चलता हैं,
वो ही इस संसार को बदलता हैं,
जिसने अन्धकार, मुसीबत और ख़ुद से जंग जीती,
सूर्य बनकर वही निकलता हैं।

sun set

Fikr Na Kar Bande Kalam Kudrat Ke Haath Hai,
Likhne Wale Ne Likh Diya Taqdeer Tere Saath Hai,
Fikr Karta Hai Kyun Fikr Se Hota Hai Kya,
Rakh Khuda Par Bharosa Dekh Phir Hota Hai Kya.

फ़िक्र ना कर बन्दे कलम कुदरत के हाथ है,
लिखने वाले ने लिख दिया तकदीर तेरे साथ है,
फ़िक्र करता है क्यूँ फ़िक्र से होता है क्या,
रख खुदा पर भरोसा देख फिर होता है क्या।

Rakh Hausla Woh Manzar Bhi Ayega,
Pyase Ke Paas Chal Ke Samandar Bhi Aayega,
Haar Kar Na Baith Ai Manzil Ke Musafir,
Manzil Bhi Milegi Milne Ka Mazaa Bhi Aayega.

रख हौसला वो मंजर भी आयेगा,
प्यासे के पास समन्दर भी आयेगा,
हार कर न बैठ ऐ मंजिल के मुसाफिर,
मंजिल भी मिलेगी मिलने का मज़ा भी आयेगा।

Leave a Comment