Saqi Ke Tabassum Ne

Saqi Ke Tabassum Ne

Aankho Ko Bachaye The Hum Ashq-e-Shikayat Se,
Saqi Ke Tabassum Ne Chhlka Diya Paimana.

आँख को बचाए थे हम अश्क-ए-शिकायत से,
साकी के तब्बसुम ने छलका दिया पैमाना।

Saqi Nazar Na Aaye To Gardan Jhukaa Ke Dekh,
Sheeshe Me Mahtaab Hai Sach Boltaa Hun Main.

साक़ी नज़र न आये तो गर्दन झुका के देख,
शीशे में माहताब है सच बोलता हूँ मैं।

Sharab Band Ho Saqi Ke Bas Ki Baat Nahin,
Tamam Shahar Hai Do Chaar Das Ki Baat Nahin.

शराब बंद हो साक़ी के बस की बात नहीं,
तमाम शहर है दो चार दस की बात नहीं।

Ye Dushmani Hai Saqi Ya Dosti Hai Saqi,
Auron Ko Jaam Dena Mujh Ko Dikha Dikha Ke.

ये दुश्मनी है साक़ी या दोस्ती है साक़ी,
औरों को जाम देना मुझ को दिखा दिखा के।

Leave a Comment