Saqi Tere Paimaane Se

Saqi Tere Paimaane Se

Rooh Kis Mast Ki Pyasi Gayi MayKhane Se,
May Udi Jaati Hai Saqi Tere Paimaane Se.

रूह किस मस्त की प्यासी गयी मयखाने से,
मय उड़ी जाती है साकी तेरे पैमाने से।

Sabki Nazron Me Ho Saqi Ye Zaroori Hai Magar,
Sabpe Saqi Ki Nazar Ho Ye Zaroori To Nahin.

सबकी नज़रों में हो साकी ये ज़रूरी है मगर
सबपे साकी की नज़र हो ये ज़रूरी तो नहीं।

Ye Thodi Thodi May Na De Kalai Mod Mod Kar,
Bhala Ho Tera Saaqiya Pila De Khum Nichod Kar.

ये थोड़ी थोड़ी मय न दे कलाई मोड़ मोड़ कर,
भला हो तेरा साक़िया पिला दे ख़ुम निचोड़ कर।

Zabaan-E-Hosh Se Ye Kufr Sarazad Ho Nahin Sakta,
Main Kaise Bin Piye Le Lun Khuda Ka Naam Ai Saqi.

ज़बान-ए-होश से ये कुफ़्र सरज़द हो नहीं सकता,
मैं कैसे बिन पिए ले लूँ ख़ुदा का नाम ऐ साक़ी।

Leave a Comment