Seeng Aur Poonchh Ki Kami

Seeng Aur Poonchh Ki Kami

Tareef Ke Kabil Hum Kahan,
Charcha To Aapki Chalti Hai,
Sab Kuchh To Hai Aapke Paas,
Bas Seeng Aur Poonchh Ki Kami Khalti Hai.

तारीफ के काबिल हम कहाँ,
चर्चा तो आपकी चलती है,
सब कुछ तो है आपके पास,
बस सींग और पूछ की कमी खलती है।

Insult Shayari - Bas Seeng Aur Poochh KI kami

Yaad Hai Hum Pahle Kahan Mile The
Train Ruki, Khidki Khuli,
Nazro Se Nazre Mili Aur Aapne Kahan
“Allah Ke Naam Pe Kuch De De Baba”.

याद है हम पहले कहाँ मिले थे,
ट्रेन रुकी, खिड़की खुली,
नजरों से नजरे मिली और अपने कहा,
“अल्लाह के नाम पर कुछ देदे बाबा।”

Itna Khubsurat Kaise Muskura Lete Ho,
Itna Qatil Kaise Sharma Lete Ho,
Kitni Aasani Se Jaan Le Lete Ho,
Kisi Ne Sikhaya Hai..
Ya Bachpan Se Hi Kamine Ho?

इतना खुबसूरत कैसे मुस्कुरा लेते हो,
इतना कातिल कैसे शरमा लेते हो,
कितनी आसानी से जान ले लेते हो,
किसी ने सिखाया है…
या बचपन से ही कमीने हो?

Leave a Comment